Kya Corona Virus, 5G Network Se Ho Raha Hai?

कोरोना वायरस और 5G Network.

आजकल कोरोना वायरस का संक्रमण काफी तेजी से हो रहा है,  तो इसके लिए 5G नेटवर्क को जिम्मेदार माना जा रहा है.

क्योंकि भारत में जल्द ही 5G नेटवर्क आने वाला है, तो भारत के कई जगह पर 5G नेटवर्क की टेस्टिंग चालू है, तो इसके चलते कई जगह पर यह खबर फैल रही है , के 5G नेटवर्क की वजह से कोरोना का संक्रमण काफी तेजी से हो रहा है और 5G नेटवर्क के वजह से कोरोना काफी बढ़ रहा है, तो ऐसे में 5G नेटवर्क की टेस्टिंग को रोकने की मांग उठ रही है.

क्या कोरोना वायरस 5G नेटवर्क से फैल सकता है?

 तो इसका जवाब है……..नहीं.

कोरोना वायरस कभी भी 5G या और किसी नेटवर्क से नहीं फैल सकता, 5G मोबाइल नेटवर्क का जो टेस्टिंग हो रहा है, वह 5G नेटवर्क एक रेडियो मैग्नेटिक वेव्स है, इस इस रेडियो मैग्नेटिक वेव्स का  इस्तेमाल डाटा ट्रांसफर के लिए किया जाता है, इन रेडियो मैग्नेटिक वेव्स से किसी भी वायरस का ट्रांसफर नहीं हो सकता, WHO वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाईजेशन ने भी इस बात की पुष्टि की है।

कोरोना के संक्रमण के लिए 5G नेटवर्क को क्यों दोषी माना जा रहा है?

कोरोना के दूसरे लहर में कोरोना काफी तेजी से संक्रमित हो रहा है,  तो कुछ लोग इसका संबंध 5G नेटवर्क के साथ जोड़ रहे हैं, जैसे नेटवर्क सिग्नल  की वजह से पंछियों की मौत हो जाती है, या फिर वह रास्ता भटक जाते हैं यह खबर भी कई सालो फैली थी, इसके बारे में आपको काफी जगह पर जानकारी मिलेगी, काफी सारे मैसेज मिलेंगे और इसके ऊपर तो एक पिक्चर भी बनाई गई है, लेकिन अभी तक इस बात की  कोई भी वैज्ञानिक पुष्टि नहीं हुई है, के नेटवर्क टावर के सिग्नल के वजह से पंछी रास्ता भूल जाते हैं या फिर उनकी मौत होती है, ठीक उसी तरह से 5G नेटवर्क का संबंध कोरोनावायरस के साथ जोड़ा जा रहा है जबकि इस बात की भी कोई भी वैज्ञानिक पुष्टि नहीं है, कि 5G नेटवर्क के वजह से कोरोना का संक्रमण बढ़ रहा है. 

वैज्ञानिक दृष्टिकोण से देखेंगे तो किसी भी वायरस या विषाणु  नेटवर्क सिगनल से फ़ैल  नहीं सकता, वायरस का प्रसार हवा, पानी या खाना या एक इंसान से दूसरे इंसान में हो सकता है लेकिन नेटवर्क सिग्नल से किसी भी वायरस का प्रसार  नहीं होता है. 

यह 5G Internet क्या है? 

5G मोबाइल का 5th generation याने 5 वी पीढ़ी का मोबाइल नेटवर्क है. जो काफी उच्चतम प्रति की इन्टरनेट स्पीड देगा. 

5G Internet लगभग 300 mbps की अपलोड स्पीड देगा, और लगभग 60 mbps की डाउनलोड स्पीड देगा. 

5G Internet से 1gb की movie डाउनलोड करने के लिए बस 30 seconds या उससे कम समय लगेगा.

5G इंटरनेट की दुनिया में पांचवी पीढ़ी का इंटरनेट है जो काफी अच्छी प्रति की इंटरनेट स्पीड देगा  काफी सारे देशों में 5G इंटरनेट की सेवा है शुरू है और कई देशों में यह सेवा शुरू होने जा रही है, ऐसे में जब भी आप इंटरनेट की अगली पीढ़ी की सेवा शुरू करते हैं तो उससे पहले उस इंटरनेट की स्पीड की और उस इंटरनेट की सेवा की जांच पड़ताल की जाना बहुत ही जरूरी होती है. ऐसे में यह इंटरनेट सेवा ग्राहकों के लिए उपलब्ध कराने से पहले इसमें यह देखा जाता है कि इसमें कोई खामियां तो नहीं है. 

इसलिए कुछ जगह पर इसकी टेस्टिंग की जाती है जिसकी वजह से कभी-कभी आपके मोबाइल में नेटवर्क की रेंज की मात्रा ऊपर- नीचे होती रहती है,काफी सारी मोबाइल नेटवर्क कंपनियां 5G नेटवर्क आने से पहले ही 5G नेटवर्क हम जल्दी ही लेकर आएंगे ऐसे ही घोषणा कर देती है और फिर 5G नेटवर्क के टेस्टिंग में लग जाती है।

उनके कुछ कंपनियों के स्टोर में 5G नेटवर्क की टेस्टिंग ग्राहकों के लिए उपलब्ध की जाती है, ताकि ग्राहक मोबाइल नेटवर्क में आने वाली अगली पीढ़ी के इंटरनेट जनरेशन के बारे में पहले से ही जान ले और जैसे ही वह नेटवर्क ग्राहकों के लिए उपलब्ध हो जाए तो उसका उपभोग करना शुरू कर दें ,जिसकी वजह से उन मोबाइल नेटवर्क कंपनियों को फायदा हो जाए, इसलिए काफी सारे मोबाइल  नेटवर्क कंपनियां नई पीढ़ी का फास्ट इंटरनेट लाने से पहले उसकी घोषणा कर देती है, और बाद में  उसकी टेस्टिंग करने में लग जाती है, उसके बाद अगर टेस्टिंग में कुछ खामियां आती है तो उसमें सुधार करके बाद में वह नेटवर्क ग्राहकों के लिए उपलब्धि किया जाता है, ऐसे में 5G नेटवर्क की टेस्टिंग हो रही है यह सभी लोगों को पहले से ही पता  है,  तो ऐसे में  नेटवर्क को किसी आपत्ति के साथ जोड़ा जाता है और यह अफवाह फैल जाती है कि नेटवर्क के वजह से वायरस का संक्रमण बढ़ रहा है

5G मोबाइल नेटवर्क और कोरोना संक्रमण के बारे में WHO ( वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ) की जानकारी. 

5G मोबाइल नेटवर्क की वजह से कोरोना संक्रमण हो रहा है, यह जो अफवाह पूरे दुनिया भर में फैल गई इसके वजह से WHO  ने वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने अपने ऑफिशल इंटरनेट साइट पर इसके बारे में जानकारी जारी की है।

WHO  ने कहा है, कोई भी वायरस रेडियो मैग्नेटिक वेव्स  या मोबाइल नेटवर्क से नहीं फैलता है कोई भी वायरस का मोबाइल नेटवर्क से प्रसार नहीं होता है, कोविड-19 कोरोनावायरस काफी सारे ऐसे जगह पर ऐसे देशों में फैला हुआ है जहां पर 5G  मोबाइल नेटवर्क अभी तक पहुंचाई नहीं है, उदाहरण के तौर पर अफ्रीका के कई सारे इलाकों में अभी तक मोबाइल का  2G नेटवर्क भी ठीक से पहुंचा नहीं है और ऐसी जगह पर भी कोरोना के मरीज पाए गए हैं तो इसका यह साफ मतलब है ,के कोरोना का 5G मोबाइल नेटवर्क से कोई संबंध नहीं है.

इसी के बारे में आगे जानकारी देते हुए WHO  ने यह बताया हुआ है कि कोरोना वायरस COVID-19 श्वसन की बूंदों से फैलता है जब एक संक्रमित व्यक्ति खांसता है, छींकता है या बोलता है। तब वह कोरोनावायरस का आगे संक्रमण कर सकता है और लोग जब भी  दूषित सतह को छूते है और फिर  उनकी आंख, मुंह या नाक को छूने से भी लोग संक्रमित हो सकते हैं. ऐसे ही काफी सारी जानकारी WHO  ने अपने ऑफिशल  वेब साइट पे दे रखी है. इस वेबसाइट  पर इसी की तरह काफी सारे सवालों का जवाब दे रखा हुआ है , जिसको पढ़ के आपके मन में अगर कोई सवाल है तो उनका समाधान हो जायेगा 

5G और कोरोना संक्रमण जैसे अफवाहों को फैलने से कैसे बचा जाए?

जब भी आप कोई इस तरह की खबर देखते हैं, तब इस तरह की  खबर पर तुरंत विश्वास ना रखें, सबसे पहले इस तरह की खबर पढ़ कर उससे आगे अपने दोस्तों के साथ शेयर ना करें, इस तरह की  खबर सुनने के बाद उसे आगे शेयर करने से पहले थोड़ा रुक के और उसके बारे में सोचें क्या सच में ऐसा हो सकता है?  उसमें आप अपना तर्क इस्तेमाल कीजिए और इस तरह की खबर  के बारे में गूगल पर शोध  करके देखिए के ऐसा सच में हो सकता है क्या? अगर इसके बारे में कोई जानकारी गूगल पर उपलब्ध है,  तो वह कौन से दिन पर पोस्ट की गई है यह भी जरूर देख ले,  उसके बाद ऐसी जानकारी किसी ऑफिशल जगह  से आई हुई है कि नहीं यह जरूर जान ले, जैसे किसी  सरकारी वेब साइट पर यह जानकारी उपलब्ध है कि नहीं इसके बारे में पहले जांच कर ले , तो जब भी आप कोई खबर पढ़ते हैं तो तुरंत उसे आगे ना भेजें सबसे पहले खुद ऊपर दिए मुद्दों के अनुसार जांच लीजिये  उसके बाद ही उसे आगे शेयर कीजिए, और कोरोना के इस समय पर अफवाहे फ़ैलाने से बचिए। 

डाउनलोड कीजिए हमारे एप्लिकेशन को Google play store से. और पाए दिलचस्प जानकारी tech and tricks के बारे में.

ज्ञान को फैलाओ

Leave a Comment