E SIM kya Hota hai?

ई-सिम मोबाइल में लगने वाला एक वर्चुअल सिम होता है. ई-सिम (eSIM) का मतलब इंबेडेड सब्सक्राइबर आइडेंटिटी मॉड्यूल है. ई-सिम को फोन में लगाने की जरूरत नहीं होती है. ई-सिम के जरिए फिजिकल सिम के सभी सर्विस का फायदा लिया जा सकता है.

E sim कैसे लिया जाता है ?

E sim लेने के लिए जो सर्विस प्रोवाइडर E sim की सुविधा दे रहे उनके गैलरी में जाके आधार कार्ड के जरिये नया E sim ले सकते है , या आपके रजिस्टर email id की पुष्टि करके E sim लिया जा सकता है .

पुराने सिम कार्ड को E sim कैसे बनाये ?

  • सर्विस प्रोवाइडर ईमेल के जरिये भी E sim की सुविधा प्रदान करते है .
  • मेसेज में eSIM<>registered email id लिखके दिए गए नंबर पे भेजते ही आपको आपके email id पर एक बारकोड आ जायेगा.
  • बारकोड मिलते ही Settings > Connections > SIM Card Manager > Add Mobile Plan > Add Using QR Code में जाके आपको बारकोड स्कैन करना है.
  • बारकोड स्कैन करने के बाद E sim की सुविधा लगभग २ घंटे में चालू हो जाती है .
  • E sim चालू होने तक आपका पुराना सिम कार्ड काम करता रहेगा .
  • airtel E sim के बारकोड सेटिंग के लिए क्लीक करे
  • jio E sim के लिए अपने निकटतम Reliance JIO ग्राहक सेवा केंद्र पर जाएँ। आपको एक पुष्टिकरण संदेश और पुष्टिकरण कॉल प्राप्त होगी। कृपया पुष्टिकरण कॉल या संदेश का जवाब दें। आपको अपने पंजीकृत ईमेल पते पर QR कोड प्राप्त होगा।

E sim के नुकसान ?

  • E sim एक फोने से दुसरे फ़ोन में डाल नहीं सकते .
  • अगर आपका मोबाइल ख़राब हो जाता है , तो दुसरे फ़ोन में E sim डालने के लिए फिर से आपको गैलरी में जाके या email id से E sim लेना पड़ता है.
  • E sim सिर्फ कुछ ही मोबाइल में आता , सभी मोबाइल में E sim अभीतक नहीं आता .
  • E sim की सुविधा सिर्फ शहरो में और वह भी किसी किसी गैलरी में ही उपलब्ध है.

डाउनलोड कीजिए हमारे एप्लिकेशन को Google play store से. और पाए दिलचस्प जानकारी tech and tricks के बारे में. 

ज्ञान को फैलाओ

Leave a Comment